दोस्तों आज हम बात करने जा रहे है दुनियां की सबसे लंबी सुरंग की जो हमारे ही देश में मौजूद है.जिसका नाम हैै,  अटल सुरंग  लेकिन आपको बता दें की जब ये बन रहा था तो इसका नाम रोहतांग था बाद में इस सुरंग का नाम बदलकर अटल सुरंग रख दिया गया. अब ये अटल सुरंग बनकर तैयार है . 

कोरोना वायरस के चक्कर में  देेर हुई


दोस्तो ये सुरंग 10 हजार फीट की ऊंचाई पर बनी एकमात्र सबसे लंबी सुरंग अटल सुरंग है. यह मनाली के पास रोहतांग में अटल सुरंग से प्रसिध्द है.  यह सुरंग पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर निर्माण किया गया है. वैसे आपको बता दें की इस सुरंग का निर्माण मई 2020 मे ही हो जाना  था. लेकिन इस कोरोना वायरस के चक्कर में  और सरकार  के द्वारा लगाइ लॉकडाउन के कारण सुरंग के निर्माण में देरी हुई. 


अटल सुरंग के बारे में जाने


मनाली की तरफ से सुरंग तक पहुंचने के लिए स्नो गैलरी है. सबसे बड़ी बात तो ये है की यहां हमेशा यानि के साल भर कनेक्टिविटी मिलती रहेगी.

इसमें हर 150 मीटर पर टेलीफोन, हर 60 मीटर पर फायर हायड्रेंट लगाए गए हैं. साथ ही इस सुरंग के अंदर इमरजेंसी एग्जिट का निर्माण भी किया गया है.

रोहतंग सुरंग के अंदर वापस मुड़ने के लिए हर 2.2 किमी के बाद टर्निंग है. हर 500 मीटर पर इमरजेंसी एग्जिट बनाए गए हैं.एवं हर 250 मीटर पर सीसीटीवी हर एक किमी पर एयर क्वालिटी निगरानी सिस्टम है. 


 सड़क से संपर्क बना सकती है


यह सुरंग हिमाचल प्रदेश के लिए काफी फायदेमंद हो सकता हैं.  आपको बता दें कि यह सुरंग हिमाचल प्रदेश और लद्दाख से सालोंभर सड़क से संपर्क बना सकती है. इस सुरंग का निर्माण काफी फायदेमंद साबित होने वाला है.

दरअसल इस प्रोजेक्ट पर पहली बार 1983 में बात हुई थी. फिर मई 1990 में रोहतांग  सुरंग के लिए एक  और बार बात हुई लेकिन कई साल इस पर स्टडी करने के बाद इस प्रोजेक्ट के भूवैज्ञानिको ने पुरी रिपोर्ट साल 2004 में पब्लिश की. 

इसके बाद इस सुरंग का डिजाइन  दिसंबर 2006 में  को बना कर दी गई . वहीं,  2007 में सुरंग निर्माण के लिए टेंडर जारी किए गए. 



वैसे इस प्रोजेक्ट को 2015 तक पूरा होना था. हालांकि, कई तरह की दिक्कतों के कारण सुरंग के निर्माण में देरी हुई. पहाड़ी क्षेत्र के साथ ही दूसरी समस्याओं ने सुरंग को बनने में देर करदी. 

Post a Comment

Previous Post Next Post