दोस्तों आपने अक्सर लोगो  को ये  कहते सुना  होगा की ये मेरा लक्की चैम है,इसके होने से मेरे साथ सबकुछ अच्छा होने लगा है. ये बात अक्सर किसी वस्तु या व्यक्ति को लेकर  कहा जाता है.लेकिन आपको बता दें इसके विपरीत भी बोला जाता है की ये वस्तु मेरे लिए  मनहूस  है,इसके आ जाने से में बरबाद हो गया या मेरा सबकुछ काम बिगड़ता चला गया.     

दोस्तों ये बात तो उनके लिए हुई जिनको पता होता है की किस कारण उनके जीवन में अचानक बदलाव आता जा रहा है. उनके काम अचानक बिगड़ने लगे है.  लेकिन आज हम ये पोस्ट उनके लिए लिख रहे है,जिनको जरा भी नहीं पता की हमे अपने घर के अंदर कैसी वस्तुओ को रखना चाहिए और कैसी वस्तुओं को नहीं रखना चाहिए 

दोस्तों वास्तुशास्त्र अनुसार घर में क्या रखना चाहिए और क्या नहीं? यह जानना जरूरी है. आपको बता दें की घर में रखें निर्जीव वस्तु  में अपनी एक ऊर्जा होती है. जो हमारे घर में अच्छी और  बुरी ऊर्जा फैलाती है. इसलिए घर में उन वस्तुओं को बिलकुल न रखें जो नकारात्मक ऊर्जा फैलाती हो.


 घर में भूलकर भी न रखें ये वस्तुएं अन्यथा आपकी बर्बादी के दिन शुरु हो जाएंगे 




 
 

टूटे-फूटे बर्तन


दोस्तों अगर  इनमे से कोई सामान आपका टूट गया हो  तो उसे तुरंत फैक दीजिये  जैसे - आईना , इलेक्ट्रॉनिक सामान, तस्वीर, फर्नीचर, पलंग, घड़ी, दीपक, झाड़ू, मग, कप आदि कोई सा भी सामान घर में नहीं रखना चाहिए इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा का वास होता  है और व्यक्ति मानसिक परेशानियां झेलता है.


ऐसे चित्र  कतई न रखें



कहते हैं कि महाभारत युद्ध का चित्र, नटराज की मूर्ति, ताजमहल का चित्र, डूबती हुई नाव, पानी का फव्वारा, जंगली हिंसक जानवरों के चित्र, किसी की समाधि या दर्गा, कब्र और कांटेदार पौधों के चित्र घर में नहीं लगाना चाहिए. कहते हैं कि इससे मन पर बुरा प्रभाव पड़ता है और लगातार इन चित्रों को देखते रहने से नकारात्मक भावों का ही विकास होता है जिसके चलते हमारे जीवन में अच्‍छी घटनाएं घटना बंद हो जाती हैं.
 

पुराने या फटे कपड़े 



अक्सर लोग घरों की अलमारी या दीवान में फटे-पुराने कपड़ों की एक पोटली रखते हैं. वह अपने कपड़े किसी को देना या फेकना पसंद नहीं करते, जो लोग ये करते है में उनको ये बता दूँ की  फटे-पुराने कपड़ों या चादरों से भी घर में नकारात्मक मानसिकता और ऊर्जा का निर्माण होता है. इस तरह के वस्त्रों को किसी को दान कर देना चाहिए या इसका किसी और काम में उपयोग करना चाहिए 

कबाड़  या कचरा 



अक्सर देखा गया है कि लोग घर में अटाला या कबाड़ जमा कर रखते हैं. इसके लिए एक कबाड़खाना अलग से होना चाहिए, पुराने या टूटे हुए जूते-चप्पल आपको आगे बढ़ने से रोक देते हैं,इन्हें भी घर से निकाल दें.
 

घर की छत 



लोग फालतू चीज़ो को फेकने के बजाए अपने घर की छत पर जमा करना शुरू कर देते है. वास्तु के अनुसार घर की छत पर पड़ी गंदगी का भी पैसों की तंगी को बढ़ा सकती है. परिवार की बरकत पर बुरा प्रभाव पड़ता है. ऐसा भी माना जाता है कि इससे पितृ दोष भी उत्पन्न हो जाता है.


 

पर्स या तिजोरी



लोग क्या करते है अपने पैसे रखने के पर्स को लकी मानकर उसे चीथड़े -चीथड़े होने तक चलाते  रहते है. पर ये सही नहीं है आपको बता दें की पर्श  फटा न हो और  पैसे रखने की तिजोरी टूटी हुई न हो. पर्स या तिजोरी में धार्मिक और पवित्र वस्तुएं रखें जिनसे सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है.

खास बातें 


  • पर्स में पांच इलायची रखेंगे तो बरकत बनी रहेगी
  •  पर्श में रुपए जमा कर रखें , इधर उधर फैला कार न रखे. 
  • जेब में भी रुपए बिखरे हुए नहीं होना चाहिए.
  •  पर्स में चाबियां या किसी भी प्रकार की अपवित्र वस्तुएं न रखें
  • पर्स में भगवान के चित्र रख सकते हैं.
 

देवी-देवताओं की मूर्ति या फोटो 

कुछ लोगो की आदत होती है  ढेर सारी मूर्तियां इकट्ठी करने की,  और  कुछ लोग आजकल भगवान के ऐसे चित्र  भी  लगा लेते हैं जो कि परंपरागत नहीं है. जैसे चिलम पीते शिवजी या विकराल रूप के भैरव भगवान, देवी-देवताओं की फटी हुईं और पुरानी तस्वीरें अथवा खंडित हुईं मूर्तियों से भी आर्थिक हानि होती है. किसी भी देवी -देवता की २ से ज्यादा मूर्ति  अपने मंदिर में न रखे. इसे शुभ नहीं माना जाता है. 


सजावटी वस्तुएं या पौधे 



घर में कांटेदार पेड़-पौधे न लगाएं, ऐसी वस्तुएं घर में नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ावा देती हैं. वास्तु के अनुसार जब घर में नकारात्मक ऊर्जा में बढ़ोतरी होती है तो इसका सीधा असर परिवार की आर्थिक स्थिति पर भी पड़ता है. इसके साथ ही स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं.
 


फर्नीचर 



आपके घर में टूटी हुई चेयर या टेबल है तो उसे तुरंत घर से हटा दें. ये आपके पैसों और तरक्की को रोक देती है. 
इनको घर में रखने से नकारात्मक ऊर्जा का विकास होता  है.

मकड़ी के जाले



दोस्तों महाराज शनिदेव को घर में गंदगी रखना या गंदगी से रहना दोनों ही ना पसंद है. वह इसकी सजा मनुष्य को किसी न किसी रूप में दें सकते है. आप अपने घर की साफ-सफाई पर ध्यान दें साथ ही खुद की सफाई पर भी ध्यान दें.  आप सबसे पहले तो घर में बनने वाले मकड़ी के जाले तुरंत हटा दें इनसे आपके अच्छे दिन बुरे दिनों में बदल सकते हैं.  लोगों के घर के किसी कोने के उपरी हिस्से में जाले लग जाते है.
 

प्लास्टिक



पुराने ज़माने में  मिट्टी के बर्तनों का खूब इस्तमाल हुआ करता था जिसमे लोग पौष्टिक खाना पकाया करते थे  जो सेहत  के लिए  भी  बहुत फायदेमंद हुआ करता था. लेकिन आजकल जमाना बिलकुल बदल गया है. आजकल प्लास्टिक का बहुत इस्तमाल हो रहा है प्लाटिक के बने सामान जैसे - डब्बा, चम्मच, चाय का डब्बा, पानी की बोतल, मसाले आदि के छोटे-छोटे डब्बे आदि कई सामान प्लास्टिक के आने लगे हैं. लोग इससे होने वाले  नुकशान को भूलकर लगातार  प्लास्टिक का इस्तेमाल करे जा रहें है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि घर में यदि प्लास्टिक है तो यह उर्जा का कुचालक होता है. 
प्लास्टिक की अधिकता से घर में नकारात्मक ऊर्जा का निर्माण तो होता ही है यह स्वास्थ के लिए भी हानिकारक है. लगातार प्लास्टिक की बोतल में पानी पीना या प्लास्टिक की प्लेट में भोजन करने से हमारे स्वास्थ्‍य पर प्रतिकूल असर पड़ता है.
 


Post a Comment

Previous Post Next Post