जहाँ तक है केला सभी फलो में थोड़ा सस्ता और बहुत ज्यादा मात्रा में बिकनेवाला फल है.  दोस्तो  आपको बता दें केला खाने वालों का एनर्जी लेवल साधारण व्यक्ति से ज्यादा होता है. 

एनर्जी लेवल बढ़ाने के साथ ही केले में विटामिन, आयरन और फाइबर पाया जाता है. एनर्जी से भरपूर होने के कारण एथलीट प्रतिदिन केले का सेवन अवश्य करते हैं. 





आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से केले के बहुत से लाभ बताएगें, जिन्हें जानकर आप केला नही भी खाते हो तो केला खाना आज से ही शुरू कर देगें तो चलिए जानते है केले के लाभ.......


दस्त में


आंतों में किसी भी प्रकार की समस्या होने पर या दस्त, पेचिश एवं संग्रहणी रोगों में दही के साथ केले का सेवन करने से फायदा होता है.


 

खांसी की समस्या



पके हुए केले को काटकर, चीनी के साथ मिलाकर बर्तन में बंद कर के रख दें. इसके बाद इस बर्तन को गर्म पानी में डालकर गर्म करें. इस्लामिक प्रकार बनाए गए शर्बत से, खांसी की समस्या खत्म हो जाती है.

 

मूहँ के छालो में



जुबान पर छाले हो जाने की स्थि‍ति में गाय के दूध से बने दही के साथ केले का सेवन करना लाभदायक होता है. इससे छाले ठीक हो जाते हैं.

 

दमे कि समस्या में



दमे के इलाज में भी केले का प्रयोग बेहद लाभकारी होता है. कई लोग इसके लिए केले को छिलके सहित सीधा या खड़ा काटकर, उसमें नमक व काली मिर्च लगाकर रातभर चांदनी में रखते हैं और सुबह इस केले को आग पर भूनकर मरीज को खि‍लाते हैं. ऐसा करने से दमा के रोगी को आराम मिलता है.
 

नकसीर की समस्या में



गर्मी के मौसम में नकसीर फूटने की समस्या होने पर एक पका केला शक्कर मिले दूध के साथ नियमित रूप से खाने पर सप्ताह भर में लाभ होता है. इससे नकसीर आना बंद हो जाता है.



 चोंट में



चोट या खरोंच आने पर केले का छिलका उस स्थान पर बांधने से सूजन नहीं होती. इसके नियमित सेवन से आतों की सूजन भी खत्म हो जाती है. 
 

जलने में 



शरीर के किसी भी स्थान पर आग से जलने पर केले के गूदे को मरहम की तरह लगाने पर तुरंत राहत मिलती है.


 

 झुर्रियां होगी खत्म



केले के गूदे को शहर के साथ चेहरे पर लगाने से त्वचा की झुर्रियां खत्म होती हैं, और त्वचा में कसाव आता है. इसके प्रयोग से चेरे पर प्राक़तिक चमक भी आती है.  

 

महिलाओं के लिए



महिलाओं में श्वेत प्रदर की समस्या होने पर, नियमित रूप से दो पके केलों का सेवन करना काफी लाभदायक होता है. प्रतिदिन एक केला लगभग 5 ग्राम शुद्ध देसी घी के साथ सुबह और शाम को खाने से भी प्रदर रोग दूर होता है.
 

पीलिया के लिए



पीलिया के इलाज में भी केले का प्रयोग किया जाता है। इसके लिए केले को बगैर छीले, भीगा चूना लगाकर रातभर ओस में रखा जाता है, और सुबह छीलकर खाया जाता है. इसे खाने से पीलिया दूर हो जाता है. यह प्रयोग एक से तीन सप्ताह तक नियमित रूप से करना चाहिए.

 

वजन के लिए




वजन बढ़ाने के लिए भी केले का प्रयोग रामबाण उपाय है. प्रतिदिन एक पाव दूध के साथ दो पके केले का सेवन करने से वजन तेजी से बढ़ता है. लगभग एक महीने तक यह प्रयोग काफी लाभप्रद सिद्ध होता है.
 


आयुर्वेद के अनुसार 



पका केला शीतल, वीर्यवर्धक, पुष्टिकर, मांसवर्धक, भूख, प्यास, नेत्र रोगों तथा प्रमेह को नष्ट करता है। जबकि कच्चा केला पाचन के लिए भारी, वायु, कफ और कब्ज पैदा करने वाला होता है.

 

दिमाग के लिए



दिमागी सेहत के लिए भी केला बहुत फायदेमंद होता है. यह एक पौष्टिक और दिमागी क्षमता बढ़ाने वाला आहार है




डिप्रेशन से राहत



कई रिसर्च से साफ हुआ है कि केले का सेवन डिप्रेशन के रोगियों को आराम देता है. केले में ऐसा प्रोटीन पाया जाता है जो आपको रिलेक्स फील कराता है. यही कारण है कि डिप्रेशन का मरीज जब भी केले का सेवन करता है तो उसे राहत मिलती है. इसके अलावा केले में पाया जाने वाला विटामिन बी 6 शरीर में ब्लड ग्लूकोज के लेवल को ठीक रखता है


आयरन



एनीमिया यानी शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी. यदि आप भी एनीमिया के शिकार हैं तो आपको केला अवश्य खाना चाहिए. केले के सेवन से शरीर में आयरन की कमी धीरे-धीरे कम होती है और आपकी एनीमिया की समस्या में भी सुधार होता है.


कब्ज



केला पेट में होने वाली कब्ज की परेशानी से राहत देता है. आप इस्बगोल की भुस्सी या दूध के साथ केले का सेवन प्रतिदिन रात में सोते समय करें. ऐसा करने पर आपको पेट में होने वाली कब्ज और गैस की समस्या से राहत मिलेगी.

Post a Comment

Previous Post Next Post