दोस्तो आप ये तो अच्छे से ही जानते होंगे कि गर्मियों के दिनों में हमारे देश के कई शहरों में तापमान इतना ज्यादा हो जाता है कि घर से बाहर निकलना ही मुश्किल होने लगता है. न चाहते हुए भी हमे किसी न किसी काम से घर से बाहर जाना ही पड़ता है. लेकिन इन दिनों दोपहर के समय बाहर बहुत तेज गर्म हवाएं चलती हैं, इन गर्म हवाओं को ही लू कहते हैं.




ऐसे लोग सहन कर सकते है


दोस्तो मजबूत इम्युनिटी वाले लोग इन गर्म हवाओं को सहन कर लेते हैं लेकिन अधिकांश लोग इन हवाओं को सहन नहीं कर पाते हैं और इनके संपर्क में आते ही बीमार पड़ जाते हैं.अपने देश में हर साल काफी बड़ी तादात में लोग लू की चपेट में आ जाते हैं.  

लू का कारण




‘गर्मी में बढ़ता पारा हवाओं को लू में बदल देता है. ऐसे में अगर हम धूप में शरीर पूरा ढंके बिना बाहर निकलते हैं, तो लू लगने का पूरी-पूरी संभावना रहती है. इसके अलावा तेज़ धूप में नंगे पैर चलना, घर से बिना कुछ खाए निकलना, कम पानी पीना, एसी वाली जगह से निकलकर तुरंत धूप में चले जाना, धूप से बाहर आकर तुरंत ठंडा पानी पीना और कम पानी पीने वालों को लू जल्दी अपनी चपेट में लेती है.

दोस्तो ऐसे जाने कि लू होने पर क्या होता है 


तो ये होते है लू के लक्षण 


  • बार-बार मुंह सूखना
  • तेज़ बुख़ार होना 
  • सांस लेने में तक़लीफ़ महसूस करना
  • उल्टी और चक्कर आना
  • लूज़ मोशन
  • सिर दर्द
  • शरीर में दर्द महसूस होना
  • हाथ-पैरों का ढीला पड़ना
  • बेहोशी जैसा लगना
  • थकावट महसूस होना शामिल है.

लू लगने से बचने के लिए करे ये


तेज़ धूप में निकलने से बचें. किसी कारणवश निकलना पड़े तो अपने शरीर को पूरी तरह से ढंक कर ही बाहर निकलें और अपनी आंखों को भी धूप से बचाएं. गर्मी में हल्के रंग और कॉटन, लिनन के कपड़े ही पहनें. ठंडी जगह से निकलकर अचानक धूप में ना जाएं. ख़ासकर एसी में बैठे रहने के बाद तुरंत धूप में ना जाएं. अपने खानपान में परिवर्तन लाएं. बहुत अधिक नमक, तीखे और खट्टे खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें. अधिक से अधिक पानी पिएं और पानी से भरपूर फलों का सेवन करें, जिससे शरीर में पानी की कमी पूरी हो सके. बासी खाना खाने से बचें और हल्का भोजन करें.   

लू से बचने के लिए ये भी कर सकते है


खाने में कच्चे प्याज़ का इस्तेमाल करें अगर सफ़ेद प्याज़ का इस्तेमाल करें तो और बढ़िया होगा. 
धूप में निकलने से पहले पॉकेट में छोटा-सा सफ़ेद प्याज रखें, यह गर्मी को सोख कर शरीर को लू लगने से बचाता है. अधिक गर्मी में मौसमी फल, फलों का रस, दही, मठ्ठा, जीरा छाछ, जलजीरा, लस्सी, आम का पना, बेल के शरबत, सत्तू और सत्तू का शरबत, नींबू पानी आदि का सेवन करें.



लू लगने के बाद क्या करे


अगर लू लग जाए तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लेना बेहतर होता है. इस दोरान आप कुछ घरेलू उपाय भी कर सकते हैं, जैसे-बुख़ार तेज़ होने पर व्यक्ति को खुली हवा में लेटाना चाहिए, सिर पर बर्फ़ की पट्टी रखनी चाहिए. मिट्टी के घड़े के पानी में नमक, चीनी व नींबू मिलाकर पिलाना चाहिए. बर्फ़ के पानी से बचना चाहिए. सत्तू व पिसे हुए प्याज़ को एक साथ मिलाकर लेप बना लें और उसे लू ग्रस्त व्यक्ति के शरीर पर लगाएं. आम का पना लू लगने में अधिक फ़ायदेमंद होता है. कच्चे आम को उबालने की अपेक्षा उसे आग में भुनें और ठंडा होने पर उसका गूदा निकालकर उसमें जीरा, धनिया, चीनी, नमक, कालीमिर्च और पानी मिलाकर घोल बना लें. लू लगे व्यक्ति को पना का सेवन उसके ठीक होने तक करवाते रहें.

Post a Comment

Previous Post Next Post